Articles

  • How to Subscribe Yojana and Kurukshetra magazine online?

    Government of India has recently made it possible for an individual to subscribe to the magazines published by the Publications Division of Ministry Of Information & Broadcasting of Government Of India online.

    Author

  • स्वामी विवेकानन्द का शिकागो व्याख्यान

    प्रस्तुत व्याख्यान माननीय प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी जी ने ११ सितम्बर, २०१८ को रामकृष्ण मिशन, कोयम्बटूर में रामकृष्ण मठ द्वारा आयोजित स्वामी विवेकानन्द के शिकागो भाषण की १२५वीं वर्षगाँठ के समापन समारोह में वीडियो कांफ्रेंस के द्वारा प्रदान किया था।

    Author

  • AshLin user on English Wikipedia

    AshLin is a retired Indian officer based in Pune. He is openly sympathetic to the left and does not hesitate in abusing any Indian Govt supporter (The political party BJP). His name is Ashwin.

    Author

  • प्रश्नोत्तरमणिमाला

    सात्त्विक सुख, शान्ति और आनन्दमें क्या फर्क है?
    सांसारिक सुख और पारमार्थिक आनन्दमें क्या अन्तर है?
    कर्तव्यका पालन कठिन क्यों दीखता है?

    Author

  • जय दुर्गे दुर्गति परिहारिणि

    माँ दुर्गा की पूजा बड़े व्यापक रूप से भारत और भारतेतर भारतवासियों के द्वारा बड़ी श्रद्धा-भक्ति से मनाई जाती है। सर्वदुखहारिणी, सर्वसुखकारिणी, दयारूपिणी, वात्सल्यप्रर्विषणी माँ दुर्गा संसार की सभी चराचर प्राणियों की माता हैं।

    Author

  • चुप-साधन

    चुप-साधन समाधिसे श्रेष्ठ है; क्योंकि इससे समाधिकी अपेक्षा शीघ्र तत्त्वप्राप्ति होती है। चुप-साधन स्वतः है, कृतिसाध्य नहीं है, पर समाधि कृतिसाध्य है। चुप होनेमें सब एक हो जाते हैं, पर समाधिमें सब एक नहीं होते। समाधिमें समय पाकर स्वतः व्युत्थान होता है, पर चुप-साधनमें व्युत्थान नहीं होता। चुप-साधनमें वृत्तिसे सम्बन्ध विच्छेद है, पर समाधिमें वृत्तिकी सहायता है।

    Author

  • काम-क्रोधादि स्वभाव नहीं, विकार हैं

    काम-क्रोधादि विकार तभी तक तुमपर अधिकार जमाये हुए हैं, जबतक इन्हें बलवान् मानकर तुमने निर्बलतापूर्वक इनकी अधीनता स्वीकार कर रखी है।

    Author

  • भगवती शताक्षी शाकम्भरी

    भगवती शताक्षीने प्रसन्न होकर ब्राह्मणों एवं देवताओंको अपने हाथोंसे दिव्य फल एवं शाक खानेके लिये दिये तथा भाँति-भाँतिके अन्न भी उपस्थित कर दिये। पशुओंके खानेयोग्य कोमल एवं अनेक रसोंसे सम्पन्न नवीन तृण भी उन्हें देनेकी कृपा की और कहा कि मेरा एक नाम ‘शाकम्भरी’ भी पृथ्वीपर प्रसिद्ध होगा।

    Author

  • जय दुर्गे दुर्गतिनाशिनि जय

    स्नेहमयी सौम्या मैया जय। जय जननी जय जयति जयति जय॥

    Author

  • How did Ganesha Ji get an elephant head?

    You may notice that one of Vinayaka’s tusks is broken. There is a legend about this too. Demon Taraka obtained boon from Brahma that he should not be killed with anything that had life or that hadn’t. With this power the wily Demon began to torment the three worlds until he was killed by Vinayaka.

    Author